मार्च 2007


बहस का प्रारम्भ तो हुआ था एक बहुत ही मासूम से सवाल से कि “पत्रकार क्यूं बने ब्लौगर” पर बहस बढ़ती गयी “दर्द बढ़ता गया ज्यों ज्यों दवा की” की तर्ज पर .इसी विषय पर बहुत लोगों के विचार आये . मैने भी एक ‘मौजिया’ (बकौल फुरसतिया जी ) चिट्ठा लिख डाला. वो बात तो मजाक की थी लेकिन आज पत्रकारिता का भविष्य क्या है .. आज के नये चिट्ठाकारिता के युग मे यह सवाल अब प्रासंगिक हो चला है. फुरसतिया जी ने अपने लेख में कहा कि पत्रकारों को ब्लौगिंग जम के करनी चाहिये लेकिन यदि हम इस पर गहराई से विचार करें तो प्रश्न उठेगा कि कितने पत्रकार आज ब्लौगिंग से परिचित भी हैं ?

आज जब हमारे पास लगभग हर तरह की जानकारी इंटरनैट के माध्यम से उपलब्ध है जहां जानकारी को प्राप्त करना ज्यादा आसान है तो इस युग में पुराने समाचार माध्यम जैसे समाचार पत्र और पत्रिकाओं का क्या होगा. अभी कुछ दिनों पहले रिपोर्ट आयी कि सैन फ्रेंसिस्को क्रोनिकल बंद होने की कगार पर है और फिर ये समाचार . हाँलाकि ये दोनो उदाहरण हिन्दुस्तान के बाहर के हैं ,जहां इंटरनैट का प्रचार प्रसार भारत से कहीं ज्यादा है लेकिन आज नहीं तो कल ये स्थिति यहाँ भी आ सकती है . ऎसे में हम सब को एक नये माध्यम के लिये तैयार होना होगा. विशेषकर पत्रकारों को .

आइये एक बार समाचार पत्रों के व्यवसाय पर नजर डालें . आपको शायद ध्यान हो पहले समाचार पत्र केवल श्वेत श्याम (black and white) ही होते थे फिर रंगीन समाचार पत्र आये. समाचार पत्रों के रंगीन होने में तकनीकी विकास से अधिक हाथ था विज्ञापन जगत का . विज्ञापनों का सुन्दर दिखना समाचारों के सुन्दर दिखने से ज्यादा आवश्यक था .भारत में मुद्रास्फिति की दर के बढ़ने के बाबजूद समाचार पत्रों की कीमत या तो उस दर से नहीं बढ़ी या फिर कम हुई . और यहां यदि हम अंग्रेजी और हिन्दी के समाचार पत्रों की तुलना करें तो अंग्रेजी की समाचार पत्रों का मूल्य हिन्दी के समाचार पत्रों के मूल्य की तुलना में हमेशा कम रहा है . उस पर भी तुर्रा ये कि अंग्रेजी के समाचार पत्रों में ज्यादा पृष्ठ होते हैं . तो फिर हिन्दी भाषी राष्ट्र के हिन्दी समाचार पत्रों का मूल्य ज्यादा क्यों ? इस सवाल का जबाब सरकार के पास शायद ना हो पर हम सब जानते हैं कि ये संभव होता है विज्ञापन जगत की कृपा से. क़ुछ लोगों को तो ये तक कहते सुना जाता था कि यदि अंग्रेजी समाचार पत्र मुफ्त भी दिये जाँये तो कंपनियों को कोई घाटा न होगा. आज तो ये बात सत्य सी प्रतीत होती है . दिल्ली में सुबह सुबह किसी रैड लाइट पर या रेलवे स्टेशन पर मुफ्त में मिलता “हिन्दुस्तान टाईम्स” इसका परिचायक है . आजकल एक नया समाचार पत्र “ मिन्ट “ चालू हुआ है जो कि मुफ्त में दिया जा रहा है .य़े विज्ञापन बाजार को स्थापित करने का प्रयास है . अब आप इंटरनैट को ही लें यहां भी जब सारे समाचार मुफ्त में उपलब्ध हैं तो फिर भविष्य में कौन खरीदेगा समाचार पत्र ?

जहां तक जानकारियों या सूचनाओं की उपलब्धता का सवाल है यहाँ भी इंटरनैट अन्य माध्यमों की तुलना में ज्यादा सहज है .हाँ यहां जानकारियों की प्रमाणिकता की बात को लेकर कुछ लोग नाक भों सिकोड़ सकते हैं पर ये बात कुछ लोगों के लिये महत्वपूर्ण हो सकती है सबके लिए नहीं. अब आप ब्रिटेनिका इनसाईक्लोपीडिया की तुलना विकीपीडिया से करें तो नि:संदेह ब्रिटेनिका ज्यादा प्रमाणिक है पर कितने लोग आज के युग में ब्रिटेनिका खरीदते हैं ! आज इंटरनैट ने उपभोक्ता की समाचार या जानकारी को खरीदने की जरुरत को समाप्त कर दिया है .

आज समाचार या जानकारी के साथ साथ ये भी महत्वपूर्ण होता जा रहा है कि वो जानकारी हमारे सामने कैसे प्रस्तुत की जा रही है . समाचार की पैकेजिंग समाचार से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गयी है .यही एक चुनौती पत्रकार के सामने भी है .पत्रकार समाज और समाचार के बीच की कड़ी है .पत्रकार का काम सूचना का आदान प्रदान है लेकिन आज जब कुछ लोग ब्लौगर को भी पत्रकार की श्रेणी मं रखने लगे हैं तो व्यवसायिक पत्रकार और शौकिया पत्रकार (ब्लौगर) के बीच की दूरियां कम होने लगी हैं ऎसे में व्यवसायिक पत्रकार के लिये कुछ नयी चुनौतियां हैं . पत्रकारों को अब तकनीकी ज्ञान का होना भी आवश्यक होता जा रहा है . ये आवश्यक नहीं कि वे लोग प्रोग्रामिंग सीखें पर ये जरूरी होता जा रहा है कि वो सही प्रोग्राम को सही जगह चिपका सकें.

इस बहस को सार्थक बनाने के लिये ये आवश्यक है कि हम सब बिना किसी पूर्वाग्रह से इस प्रश्न पर विचार करें और अपना मत दें . तभी हम जान पाएगें बीस साल बाद के रवीश कुमार जी का भविष्य ..


ब्लौग की दुनिया बड़ी निराली है . जब आप विवादित हों तो आपको हिट्स भी मिलती हैं और प्रतिक्रियायें भी . जब आप एक भाव पूर्ण कविता लिखो तो आप को कोई नही पूछ्ता -हां गिरिराज जी प्रशंसा करते हुए नाम के आगे प्रश्नचिन्ह जरूर लगा देते हैं . अनामदास जी कहते हैं कि “ब्लौग” को उलटा करो तो “ग्लोब” जैसा कुछ बनता है . तो क्या ब्लौग हमारी दुनिया या समाज का आइना है जहां जो “बिकता है वो दिखता है” ? अब हमने (संजय भाई ने कहा है .. कि हास्य व्यंग्य में ‘हम’ चलता है ‘मैं’ नहीं) भी सोचा कि बेजी जी ने जब लिखा पत्रकार क्यूँ बने ब्लौगर ?? तो उन्हें खूब हिट्स मिले और उसी प्रश्न को जब यहां उठाया गया तो बहुत प्रतिक्रियायें भी आ गयीं …. तो हम भी कुछ लिख डालें ताकि हमें हिट्स भी मिलें और प्रतिक्रियायें भी ( अब नीरज भाई आप फिर से ‘परिचर्चा‘ का रास्ता ना दिखायें …लोगों को करने दें प्रतिक्रियायें ) . तो हमने भी उसी यक्ष प्रश्न को अपने अंदाज में टटोला तो ये पाया.

पढ़िये ‘ सेवन रीजन्स फोर बिकमिंग हाईली इफेक्टिव पत्रकार-ब्लौगर ‘

1.काम की कमी : पत्रकारों के पास काम की निहायत ही कमी होती है. कभी कभी तो इस कमी से मानसिक तनाव तक हो जाता है . इसी तनाव से उबरने के लिये ये लोग ब्लौग का रास्ता अपना लेते हैं.

2.कमेंट्स पर भी अपने कमेंट्स : हम जैसे ‘नॉन पत्रकार” को एक चिट्ठा लिखना भी भारी पड़ता है या फिर कोई विषय नहीं मिलता और ये लोग काम की कमी के मानसिक तनाव की वजह से कमेंट्स पर भी अपने कमेंट्स देकर अपना चिट्ठा बना लेते हैं .

3.पाप पुण्य और पैसा : पत्रकार को पाप पुण्य का बहुत ज्ञान होता है वो जानता है कि यदि कुछ पाप हो भी गया तो उसे कैसे दूर करना है … .इस लिये वो ढेरों पाप करता है (ब्रेकिंग न्यूज के लिये) –“बिना पाप पैसा कहां”- और फिर कहता है “पाप से नही स्नान से डरो” .. वैसे भी टी. वी. पत्रकार जिसका थोबड़ा भी टी. वी. में आता है उसे सुन्दर दिखने के लिये हर रोज नहाना पड़ता है (कभी कभी तो सर्दियों में ठंडे पानी से भी) तो वो तो वैसे भी स्नान से डरता ही है .

4.खाक छानता पत्रकार : पत्रकार को न्यूज के लिये जगह जगह की खाक छाननी पड़ती है .इसलिये जब वो ब्लौग लिखने के लिये बिना खाक छाने कोई न्यूज लिखता है तो उस माहोल को ‘मिस’ करता है इसीलिये उनके ब्लौग्स के नाम होते हैं ‘मोहल्ला’ ,‘कस्बा’ , ‘दिल्ली-दरभंगा’ … वैसे आगे आने वाले पत्रकारों के लिये ‘गली’ , ‘बाजार’ , ‘शहर’ , ‘राज्य’ , ‘नुक्कड़’ , ‘गुमटी’ ,’रतलाम-मोतिहारी’ जैसे नाम सुरक्षित हैं

5.टाइपिंग की टीस : टाइपिंग और पत्रकारिता का चोली दामन का साथ है . जैसे कि अनामदास जी कहते हैं कि “कीबोर्ड की खाता हूँ, उसके बिना मन नहीं लगता. हर काम आराम से करता हूँ, बस धीरे-धीरे टाइप नहीं कर सकता”. हमारे यहां तो उल्टा ही है “ बीबी की खाता हूँ (डांट) , उसके बिना मन नहीं लगता. हर काम तेज-तेज करता हूँ , बस तेज-तेज टाइप नहीं कर सकता”. इसलिये पत्रकार फटाफ़ट चिट्ठे लिखें तो क्या अचरज.

6.चक्कर चालीस से चौदह का : पत्रकारों के शौक बड़े निराले होते हैं. शराब और सिगरेट इनके अच्छे साथी होते हैं (ये मैं नही कह रहा अनामदास जी ने कहा “बाक़ी कुढ़ते हैं या शराब में बूड़ते हैं” ). लेकिन कभी कभी कोई गलती से पीना छोड़ भी दे (थोड़ॆ दिनों के लिये ) तो वो उस पर भी चिट्ठा लिख डालता है और पहुंच जाता है सीधे दौड़कर चालीस से चौदह में..!

7.महान बनने का शौक : य़े बात तो सही है कि पत्रकारों के पास एक बहुत बड़ा बाजार है लेकिन वो जानते हैं कि “बाज़ार केवल धनवान बना सकता है, महान नहीं !” . इसी महान बनने के चक्कर में वो लोग ब्लौग लिखते हैं..कि शायद… .( अब इस से कोई ये मतलब ना निकाल ले कि ब्लौग लिखने वाला महान होता है..)

डिसक्लेमर : ये सारा चिट्ठा मैं अपने पूरे होशोहवाश में लिख रहा हूं ..यहां किसी व्यक्ति विशेष की ना तो आलोचना है ना सराहना .इसलिये कृपया चप्पल , जूते ना मारें . मारने का इतना ही शौक है …तो फिर कमेंटस मार लें.


नैनीताल समाचार (जो कि श्री राजीव लोचन शाह द्वारा निकाला जाता है) के नये अंक में श्री मुकेश नौटियाल की यह कविता छ्पी है. श्री मुकेश नौटियाल की दूसरी बेटी का जन्म 1 फरवरी को हुआ है. बहुत सही स्थिति का वर्णन किया है उन्होने.

तुम्हारे आने की सूचना
मुझे डाक्टर ने यूं दी –
माफ करना
फिर से लड़की हुई है
लेबर रूम से निकलकर तुम्हारी माँ ने
जब मुझसे नजरें मिलाई
तो उसकी आँखों में तैर रहा था
घना अपराधबोध
जितनी जगह सूचना दी मैने फोन पर
तुम्हारे आगमन की
उतनी जगह से ‘सौरी ‘ जैसा
जबाब मिला मुझे
और जब नर्स ने सौंपी तुम्हारी नवोदित देह
मेरे हाथों में
तब मैने पूछा तुम्हारा सगुन !
(जानता था मैं कि सगुन लिये बगैर
नहीं सौंपती नर्सें
बच्चों को उनके माता पिता के हाथ
तब भी यही हुआ था
जब तुम्हारी दीदी पैदा हुई थी
तीन बरस पहले इसी अस्पताल में )
और जानती हो क्या कहा नर्स ने !
उसने कहा दोहरे बोझ से दबने वाले से
क्या सगुन लेना
निभा लो रस्म जितने से बन पड़े
आज पता चला मुझे
कि तुम ना आओ इसके लिये
तुम्हारे अपनों ने ही रखे थे
अनेकों व्रत उपवास
अभी तो तुम आयी ही हो दुनिया में
नहीं समझ पाओगी इन बातों के अर्थ
पर सालों बाद
जब पढ़ोगी तुम इस कविता को
तो हंसोगी शायद
कि उत्तर आधुनिकता के ठीक पहले तक
अपने यहां की महिला डाक्टर
माफी माँगा करती थी बेटियाँ होने पर
और मेरे जैसे बाप
हारे हुए सिपाही समझे जाते थे
तुम्हारे होने पर…..


चाह थी एक ‘सभ्य दुनिया’ में ,कदम जब मैं बढ़ाऊं
लोग मेरा प्रेम से स्वागत करें, और गीत गायें
इन रास्तों पर चल चुके पहले कभी,
वो ही मेरे
पथ प्रदर्शक बन ,
गले अपने लगा लें

चाह थी..
कोई जब उंगली पकड़कर ,साथ मेरे यूं चलेगा
नित नयी मंजिलों से ,रूबरू मैं हो सकुंगा
और संग में गीत गांऊगा ,सदा मैं प्यार के ही
प्रीत बाटूंगा सदा मैं ,मीत सब का बन सकुंगा

जोड़ पाऊंगा नये अध्याय मैं इतिहास में
देख पाउंगा मैं दुनिया को, नये एक रंग में

मिल रहे थे मीत कुछ , उत्साह से प्रारम्भ मे
कर रहे उत्साह-वर्धन ,तालियां दे दे मेरा

लिख रहा था मैं भी तब, नूतन सृजन के वृंद , छंद
भावना में बहके मैं, मुस्कुराता मंद मंद

यह नया संसार मुझको , रास अब आने लगा था
कायदों से ‘सभ्य दुनिया’ के रहा मैं, अपरिचित
और अति उत्साह में मुख खोल के गाने लगा था

तब कहीं कुछ घट गया ,और बंदूके तनी
रास ना आया मेरा , इस कदर मुंह खोलना

सभ्यता के नायकों को भाया नही यह गीत था
पीठ पर छूरा जो भौंके वो तो सबका मीत था

सृजन के उन शिल्पियों ने , ख्वाब जब तोड़ा मेरा
“धूमकेतु” बनके अब मैं ,ढूंढता हूं मंजिलों को

कितु जीवन कुछ नही, बस खुदा का खेल है
एक पल लड़ना यहां ,अगले पल फिर मेल है

काकेश


कल जब अपना चिट्ठा लिख रहा था तब ना तो मन में ये था- जैसा कि हमारे अग्रज (?) ने कहा “वैसे, विवादों से शुरुआत करना अपनी तरफ ध्यान आकर्षित कराने का पुराना फंडा रहा है।“ –कि मैं किसी का ध्यान अपनी और आकर्षित करूं और ना ही ये कि मैं “पिल्लम पिल्ली” कर कोई विवाद को जन्म दूं ..और “पिल्लम पिल्ली” करना मेरी हौबी भी नहीं है ..और “तू कौन खांमखा ?” कोई कहे तो “क्या जबाब दें ?”..हम तो कोई भी नहीं श्रीमान…और फिर केवल चिट्ठा लिख ले लेने से कोई कुछ हो भी नहीं जाता भाया..तो हम तो कोई भी नहीं ..

अब तो लग रहा है कि या तो अपन को भी “ब्लोग की राजनीति “ समझनी पड़ेगी या फिर जल में रह कर “मगर” से बैर करना पड़ेगा (वैसे आपने crocodile tears के बारे में तो सुना ही होगा ना). मेरा सोचना था (!) कि मैं भी चर्चा में चल रहे चिट्ठों पर अपने विचार व्यक्त करता रहूं किंतु बहुत सी विपरीत टिप्पणीयों से अब उसकी हिम्मत नहीं रही .इसलिये नहीं मैं घबरा कर भाग रहा हूं बल्कि इसलिये कि मैं फालतू के वाद-विवाद में अपनी ऊर्जा नष्ट नहीं करना चाहता..ज़ब लोग “वाद-विवाद” को सिर्फ “विवाद” की दृष्टि से ही देखें तो फिर तर्क युक्त बातें भी बेमानी हो जाती हैं ..मैं सेठ जी से सहमत होते हुए यह कह सकता था कि मैं आपके लिये नहीं लिखता पर “सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं” इसलिये मैं अब “शुरुआती झटकों” को बन्द करता हूं..और अब आइन्दा सिर्फ और सिर्फ अपनी ही बात करुंगा.. कोई “वाद” ना होगा तो “विवाद” भी ना होगा…

अब हर चिट्ठा आपको अच्छा ही लगे ये जरुरी तो नही जैसे डा. प्रभात ने कम्पयूटर को जल्दी खोलने और जल्दी बन्द करने का उपाय बताया अब चुंकि मैं आई.टी. से जुड़ा हूं मेरे लिये ये बचकानी सी बात है पर मैं इस पोस्ट के पीछे मनतव्य को समझता हूं इसलिये इसे अच्छा ही मानता हूं..

एक दोहा आज दिन भर बहुत याद आया …. ना जाने क्यों..??

बड़ा हुआ तो क्या हुआ , जैसे पेड़ खजूर
पंछी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर

सभी गुणी जनों को मेरा प्रणाम ..


जुम्मा जुम्मा दो ही दिन तो हुए थे हमें (मुझे) हिन्दी में चिट्ठा शुरु किये कि मसिजीवी का ये चिट्ठा पढ़ा. (जबसे इंटरनैट पर चिट्ठा पना प्रारम्भ किया काफ़ी लोगो को खुद कोहमपुकारते देखा.तब समझ में नहीं आया कि मैं खुद को क्या पुकारूंमैंयाहम”. फ़िर सोचा कि हिन्दी व्याकरण के अनुसार तोमैंही होना चाहये.) . पहले सोचा था कि कल ही एक नया चिट्ठा लिख डालूं फ़िर सोचा कि चलो एक बार पहले के कुछ hindi blogs पढ़े जायें .

इंटरनैट पर हिन्दी की चिट्ठाकारी को कुछ ही दिन हुए हैं पर इतने ही दिनों में इतने सारे वाद विवाद हो गये कि लगता है हम लोग बहुत जल्दी में हैं. वाद विवाद भी किसलिये .. क्योंकि हम चाहते हैं कि हिन्दी का इंटरनैट पर भी बोल बाला हो.. पर यहां हम य़ह भूल जाते हैं कि इंटरनैट भी एक माध्यम ही है बस ..इसमें बाकी वही चीजें रहनी हैं जो कि सामान्यतः हिन्दी लेखन में हैं .. वैसे तो कई सारी चीजे अच्छी बुरी लगीं दो प्रमुख चीजों ने बहुत उद्वेलित किया 1. आचार संहिता बनाने का प्रयास 2. मुखोटों की मारामारी

कल ही एक लेख आया जिसमें आचार संहिता को मजाकिया लहजे में दिखाने का प्रयास किया .लेकिन ये तो मजाक था यदि इसे गम्भीरता से सोचें तो ये कोई मजाक नही है ..हिन्दी  चिट्ठाकारी को हम क्यों पत्रकारिता की श्रेणी में रखते हैं ..यह भी तो हिन्दी लेखन ही है सिर्फ माध्यम अलग है …तो जब उसमें कोइ आचार संहिता नहीं तो यहाँ हम ऎसी बातें क्यों करें…हिन्दी लेखन में ऎसे बहुत उदाहरण मिल जायेंगे जहाँ वो सभी शब्द प्रयोग किये गये हैं जिन्हे हम यहाँ अछूत मान रहे हैं ..क्या आपने “  राही मासूम रज़ा” का “ आधा गाँव “ नही पढ़ा… और फिर किसे यह हक है कि वो आचार संहिता बनाये ?.. इंटरनैट एक खुला माध्यम (open platform) है ..इसे खुला ही रहने दें इसकी सुन्दरता  व भलाई भी इसी में है… यहां मैं इस चीज की वकालत नही कर रहा कि चिट्ठों में “अछूत भाषा “ का प्रयोग हो बल्कि यह कि इसके निर्धारण का अधिकार लेखक के वजाय पाठक को हो… वैसे भी इंटरनैट हमें मुक्त करता है फिर हम इसे क्यों सीमाओं में बाँधने का प्रयास करें.. कमप्यूटर की दुनियां में आज एक बहुत बड़ा तबका स्वतंत्रता के अधिकार की बात करते हुए (open source software) माइक्रोसोफ्ट जैसी बड़ी कंपनी से लोहा लेता है वहीं हम इसे…..खैर अभी इतना ही. बाकी अगली पोस्ट में..

एक शिकायत.. “चिट्ठा चर्चा” में दीप्ती पंत के नये चिट्ठे का जिक्र हुआ मेरे चिट्ठे का नहीं… क्या चर्चा के लिये “स्त्रीलिंग” होना आवश्यक है..यदि ऎसा है तो मैं भी फिर जे. ऎल. सोनार की तर्ज पर नया मुखोटा लगाऊं..:-)


बहुत दिनों से सोच रह था कि मैं भी Blogging (चिठ्ठाकारी) प्रारम्भ करूं पर एक तो हिन्दी लिख्नने का सह्ज साधन उप्लब्ध नहीं था दूसरा ये भी भय था कि कही हिन्दी चिठ्ठाकारी के धुरुन्धर (लिंक दिया जा सकता था पर दे नही पाया…आप सुझायें.. ) इसे अन्यथा ना ले लैं. पहली समस्या को सुलझाया Indic IME को क्म्प्यूटर में स्थापित कर .अब मैं Microsoft word (2007) में टाइप तो कर पाता हूं पर गति अभी भी बहुत कम है .विशेषकर ‘आ’ की मात्रा लगाना भूल जाता हूं और फिर पीछे जाने पर मात्रा लगाना कठिन हो जाता है क्योंकि अब वो मात्रा नहीं पूरा ‘आ’ बन जाता है .आशा है ‘धुरुन्धर’  सहायता करेंगे.

फिर अमित जी का ब्लोग पढ़ा तो लगा कि दिल्ली में तो हम भी थे तो 6 घंटे चली वार्ता का हिस्सा तो हो ही सकते थे . फिर खुद को टटोला तो लगा कि हमने तो अभी चिठ्ठाकारी प्रारम्भ भी नहीं की फिर केसे इस शिखर वार्ता का हिस्सा बनते . तो प्रेरणा मिली कि चलो कुछ लिखा जाय . बेसे नारद और अक्षरग्राम पर अपना आना जाना लगा रहता है ..पिछ्ले 2-3 महीनों से हिन्दी की लगभग सारी पोस्ट पढ़ रहा हूं..
पहले सोचा करता था कि ब्लोगिंग वही लोग करते होंगे जो या तो पत्रकार है , या फिर सरकारी कर्मचारी जिनके पास समय बहुत रह्ता है ..हालाकि ये बात काफी हद तक सच भी है पर पूर्णतः नहीं ..

चलो अभी बहुत हो गयी बकबक ..बांकी फिर ..अभी तो हिन्दी लिख्नना ही सीख रहा हूं..